अवधारणा

निरंतर एकीकरण (Continuous Integration; CI)

यह क्या है

निरंतर एकीकरण (Continuous Integration) , जिसे अक्सर CI कहा जाता है, कोड परिवर्तन को जल्दी से जल्दी एकीकृत करने का एक अभ्यास है। CI, CD पढ़ने के लिए आवश्यक है। ऐतिहासिक रूप से, CI की प्रक्रिया तब शरू होती है जब कोड परिवर्तन को सोर्स नियंत्रण सिस्टम (Git, Mercurial, या Subversal) में कमिट किया जाता है और वह परीक्षित उत्पाद, CD सिस्टम में जाने के लिए तैयार होता है।

समस्या

ज़्यादातर सॉफ्टवेयर सिस्टम बहुत बड़े और जटिल होते है जिसको कई डेवेलपर्स रोज़ मेन्टेन और अपडेट करते है। वह लोग समानांतर अपने सिस्टम पर काम करते है जिस कारण कई विवादग्रस्त परिवर्तन आ सकते है और अनजाने में एक दूसरे के कोड में दिक्कत आ जाती है। इसके साथ ही विभिन्न डेवेलपर्स रोज़ एक ही प्रोजेक्ट में काम करते है, जिससे रोजमर्रा के कार्य, जैसे कोड का परिक्षण और गुणवत्ता की जाँच प्रत्येक डेवलपर द्वारा दोहराया जाना पड़ता है जो समय की बर्बादी है।

समाधान

जब कभी भी कोई डेवलपर परिवर्तन कमिट करता है, CI सॉफ्टवेयर स्वचालित रूप से जाँच करता है की कोड अच्छे से मर्ज हो जाए। यह लगभग एक सर्वव्यापी अभ्यास है की हम CI सर्वर का उपयोग कोड की गुणवत्ता की जाँच, परिक्षण और यहां तक कि डेप्लोय्मेंट्स के लिए भी करते है। इसी चलते यह टीमों के भीतर कोड परिक्षण के लिए एक ठोस कार्यान्वयन बन जाता है। CI सॉफ्टवेयर टीमों को अनुमति देता है की वह किसी भी कोड कमिट को या तो ठोस असफलता या फिर एक व्यवहार्य रिलीज में बदल सकते हैं।


अंतिम बार संशोधित August 3, 2022: Merge 5 new Hindi localizations into main (#1158) (d0210b0)